Sunday, September 18, 2011

ईश्वर और संत की वाणी पर जितना अविश्वास होगा ;निराशा उतनी ही मात्रा में आयेगी।
------श्री महाराजजी.