Friday, September 16, 2011

गुरु के आदेशों में उचित-अनुचित का विचार करना ही भयंकर पाप है।
------श्री महाराजजी.