Monday, September 26, 2011



खूब तरसाया है तेरी ख़्वाहिशों ने ही तुझे।
तू भी अब इन ख़्वाहिशों को कुछ तरसती छोड़ दे।।