Monday, October 31, 2011





सुनहु मन ! यह ऐसो संसार |
बांधि अधर्मिन और विकर्मिन, पठवत नरक मझार |
धर्मिन कर्मिन स्वर्ग पठावत, सोउ क्षणभंगुर यार |
योगिन कहँ अणिमादि सिद्धि दै, देत छाँड़ि मझधार |
ज्ञानिन कहँ तजि देत सदा को, दै तिन मुक्ति असार |
...
प्रेम ‘कृपालु’ पाव सोइ जोइ भज, नागर नंदकुमार ||

भावार्थ- अरे मन ! यह मायात्मक संसार का स्वरूप सुन | यह संसार अधर्मियों एवं विकर्मियों को बाँधकर नरक भेज देता है | धर्मात्माओं एवं कर्मकाण्डियों को स्वर्ग भेज देता है किन्तु वह भी क्षणभंगुर ही है | योगियों को अणिमा, लघिमा आदि सिद्धियाँ देकर बीच में ही छोड़ देता है | ज्ञानियों को चार प्रकार की मुक्ति देकर सदा के लिए सुख एवं दुख दोनों से वंचित कर देता है | ‘श्री कृपालु जी’ कहते हैं कि प्रेम तो एकमात्र उसी को प्राप्त होता है जो श्यामसुन्दर का निरन्तर भजन करता है |

(प्रेम रस मदिरा सिद्धान्त-माधुरी)
जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
सर्वाधिकार सुरक्षित- राधा गोविन्द समिति.