Friday, February 8, 2013






भगवतविषय की प्यास ही किशोरी जी का रूप है !
------श्री महाराज जी।