Thursday, February 21, 2013

तुम अपने को क्यों शरीर मानते हो ? अपने को केवल आत्मा मानो और सबमें हमारा प्रेमास्पद , हमारा परमात्मा बैठा हुआ है ! यह द्रढ़ विश्वास करो ! और सोचो किसी के दिल को दुखाना , किसी की बुराई करना , किसी में दुर्भावना लाना इससे हमारे प्रभु को कितना कष्ट होगा !

******जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज******
तुम अपने को क्यों शरीर मानते हो ? अपने को केवल आत्मा मानो और सबमें हमारा प्रेमास्पद , हमारा परमात्मा बैठा हुआ है ! यह द्रढ़ विश्वास करो ! और सोचो किसी के दिल को दुखाना , किसी की बुराई करना , किसी में दुर्भावना लाना इससे हमारे प्रभु को कितना कष्ट होगा !

******जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज******