Saturday, February 23, 2013

नाम पतित पावन सुनि, निर्भय हवे किय पाप।
यामें दोष बताउ मम, दोषी तो हैं आप।।

हे श्रीकृष्ण! मैंने आपका पतितपावन नाम सुनकर ही निर्भयता पूर्वक दिन रात धुआँदार, बिना सोचे विचारे ही पाप किए। किन्तु इसमे मेरा क्या दोष है? दोष तो आपके 'पतित पावन' नाम का है।
------श्री कृपालुजी महाप्रभु।
नाम पतित पावन सुनि, निर्भय हवे किय पाप।
 यामें दोष बताउ मम, दोषी तो हैं आप।।

 हे श्रीकृष्ण! मैंने आपका पतितपावन नाम सुनकर ही निर्भयता पूर्वक दिन रात धुआँदार, बिना सोचे विचारे ही पाप किए। किन्तु इसमे मेरा क्या दोष है? दोष तो आपके 'पतित पावन' नाम का है।
------श्री कृपालुजी महाप्रभु।