Wednesday, July 9, 2014

बस , मनुष्य का एक ही धर्म है , एक ही ज्ञातव्य है। एक बात जानो , एक निश्चय करो।
क्या ?
भगवान् की भक्ति , भगवान् का स्मरण। भक्ति माने स्मरण। मन का स्मरण। भूलो मत।
.......जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाप्रभु।