Wednesday, July 23, 2014

सबसे बड़ा पाप है दूसरे को दुःख देना।
....श्री महाराज जी।