Wednesday, July 2, 2014

हे! मेरी राधे!..... गुरु द्वारा मुझे यह ज्ञान दिया गया कि तुम ही मेरी हो परंतु मैंने कभी इस सत्य को दृढ़तापूर्वक कभी माना नहीं,अब तुम ही मनवा दो।