Wednesday, September 11, 2013

किसी भी स्थान में यदि कुसंग प्राप्त होता है तो उस स्थान का तत्काल त्याग कर देना चाहिये।

---------जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।