Friday, September 6, 2013

कोई कहता है कि कामनाओं को छोड़ दो ! एवं कोई कहता है कि केवल श्याम भजन करो ! मेरी राय में दोनों ही भोले हैं ! अतः कामना त्याग एवं हरि अनुराग - साथ साथ करना है !
.........जगद्गुरु श्री कृपालु महाप्रभु जी.