Sunday, September 1, 2013

भगवान् से कोई जीव किसी प्रकार का लाभ नहीं उठा सकता ! जैसे समुद्र का खारा जल किसी प्राणी की प्यास नहीं बुझाता परन्तु वही समुद्र का जल जब बादल बरसाता है तो सम्पूर्ण जगत तृप्त हो जाता है ! इसी प्रकार संतों द्वारा ही भगवान् की दिव्य महिमा का ज्ञान प्राप्त करके जीव भगवान् का आनन्द प्राप्त कर लेता है !

-------जगद्गुरु श्री कृपालु महाप्रभु.
— with Jagadguru Shri Kripalu Ji Maharaj (5th Original Jagadguru).