Friday, September 6, 2013

वास्तविक साधना गुरु आज्ञापालन ही है। जो कुछ प्राप्त होना है वह तो गुरु कृपा पर ही निर्भर है।

-----जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।