Friday, September 6, 2013

सूर्य के उदय होते ही प्रकाश पाकर वस्तुएँ दिखायी देने लगती हैं। इसी प्रकार संत साधक को दिव्य द्रष्टि प्रदान कर हरि का प्रत्यक्ष दर्शन करा देते हैं।
.......जगद्गुरुत्तम श्री कृपालु महाप्रभु जी।