Sunday, August 3, 2014

मेरी राधा रमण सो यारी , तन मन धन उन पर वारी !
मेरी राधा रमण सो यारी , मेरी यारी जगत सों न्यारी !
मेरी राधा रमण सो यारी , क्या समझेगा कोउ संसारी !
मेरी राधा रमण सो यारी, मेरी यारी पै यार बलिहारी !
मेरी राधा रमण सो यारी, मेरी यारी परी वाय भारी !
..........श्री महाराज जी।