Friday, August 1, 2014

गुरु की सेवा करने वाला साधक तो गुरु का प्रिय है,अत: उससे द्वेष करना पाप है।
.......श्री महाराज जी।