Thursday, May 15, 2014

गलत और विपरीत चिंतन करके साधक स्वयं अपना नुक्सान कर लेता है।
...श्री महाराज जी।