Sunday, May 4, 2014

धरो मन गौर चरण को ध्यान।
जिन चरनन को अपने हिय में धारत सुन्दर श्याम।।