Saturday, May 17, 2014

भक्त बनना है तो सबमें भगवान् को देखो किसी का अपमान न करो। कड़क न बोलो। उसको दुःखी न करो -
परपीड़ा सम नहिं अधमायी ।
सबसे बड़ा पाप कहा गया है दुसरे को दुःखी करना । कम बोलो , मीठा बोलो और सहनशीलता बढ़ाओ , नम्रता बढ़ाओ , दीनता बढ़ा। इससे साधना जो किया है या जो कर रहे हो वो पूँजी बनी रहेगी। ये काम , क्रोध , लोभ , मोह आकर उसको बिगाड़ देते हैं। तो साधक फिर वहीँ लौटकर आ जाता है , जहाँ से चला था। प्लस नहीं हो पता। तो कमाए चाहे १० हजार लेकिन खर्चा कम कम से कम करे तो पूँजी बढ़ती जाती है , और १० हजार कमाया १५ हजार खर्चा करे वह कमाई किस काम की। तो सत्संग करना भगवान् की भक्ति करना , ये तो कमाई है गधा भी जनता है लेकिन इस कमाई में गड़बड़ न होने पावे , ये सावधानी बरतना चाहिए।
.........जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।