Monday, March 11, 2013

अहंकार से बचना और अपमान को सहर्ष ग्रहण करना, यह साधना की आधारशिला है।

------श्री महाराजजी।