Sunday, April 20, 2014

कुसंग के गलत वातावरण में रहते हुए भी जो सत्संग में निरंतर बढ़ता जाये,वही असली साधक है।
...........श्री महाराज जी।