Thursday, April 17, 2014

मैं सीधा-सादा मिज़ाज था.....मुझे मोहब्बत की क्या ख़बर.......!
तेरे इक 'तबस्सुम-ए-शोख़' ने मेरे दिल को बदल दिया........!!
राधे-राधे।