Monday, August 19, 2013

यह संसार सम्बन्धी जो मन का अनुराग है | इसको आसक्ति कहते हैं और भगवान् सम्बन्धी जो अनुराग है उसको प्रेम कहते हैं | लेकिन एक प्रेम करना होता है और एक अन्तःकरण शुद्ध होने पर ही गुरुकृपा द्वारा प्राप्त होता है | प्रेम गुरु कृपा से मिलता है, किया नहीं जा सकता |

श्री महाराजजी.