Monday, August 19, 2013

जीव ने न जाने कितनी बार संत व् भगवान् का दर्शन , संग आदि किया पर उन पर विशवास नहीं किया अतः पाप ही करता रहा।
-------श्री महाराज जी।