Monday, August 19, 2013

जब तक मन शुद्ध नहीं होता तब तक वेद - वाणी एवं गुरु वचनों पर विशवास नहीं होता।
.........श्री कृपालु जी महाराज।