Monday, August 19, 2013

हरि, और हरि के जन यानि महापुरुष, इन दोनों से छल-कपट नहीं चल सकता।
.........श्री महाराजजी।