Monday, June 17, 2013

हरि एवं गुरु से जितना विशुद्ध प्रेम होगा,उतना ही संसार से सच्चा वैराग्य होगा।
........श्री महाराजजी।