Thursday, June 20, 2013

संसार में न दुख है न सुख, वस्तुत: हमारी काल्पनिक मान्यता का परिणाम ही सुख एवं दुख है।
------श्री कृपालुजी महाप्रभु।