Thursday, June 20, 2013

जिस महापुरुष के सानिध्य में हृदय में भगवत प्रेम बढ़ने लगे एवं हृदय पिघलने लगे समझो की वह वास्तविक महापुरुष है।