Thursday, June 20, 2013

हम शिष्य भी नहीं बनाते एवं समपरदाय भी नहीं चलाते।
यह सब मेरे मत से उचित नहीं हैं। संपरदायों से परस्पर द्वेष फैलता है। मैं सभी संपरदायचार्यों के सिद्धांतों का पूरा समन्वय करता हूँ।
------जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।