Tuesday, June 25, 2013

जैसे हम चलते , फिरते, बोलते हैं , ऐसे ही भगवान् की प्रत्येक वस्तु चेतन है।
........श्री महाराज जी।