Wednesday, June 5, 2013

जब तक यह निश्चय न हो जाये कि संसार में सुख नहीं हैं,भगवान में ही सुख है,संसार की सम्पत्ति बटोरने की कामना रहेगी।
-------जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।
जब तक यह निश्चय न हो जाये कि संसार में सुख नहीं हैं,भगवान में ही सुख है,संसार की सम्पत्ति बटोरने की कामना रहेगी।
-------जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।