Saturday, June 15, 2013

हमरी ओर टुक हेरो री किशोरी राधे |
यद्यपि भलीभांति हौं जानत, तुम बिनु हितू न मेरो री किशोरी राधे |
तदपि रसिक जन कही न मानत, रहत विषय को चेरो री किशोरी राधे |
परनिंदा परदोष कथन में, चतुर विचित्र चितेरो री किशोरी राधे |
करत नाम अपराध निरंतर, हिय हंकार घनेरो री किशोरी राधे |
बात बनावत ब्रज रसिकन की, मन कामादि बसेरो री किशोरी राधे |
नाम ‘कृपालु’ काम तुम जानति, भलो बुरो जस तेरो री किशोरी राधे ||

भावार्थ - हे वृषभानुनंदिनी राधे ! थोड़ा इस अधम की ओर भी अपनी कृपा - कटाक्ष युक्त दृष्टि डालिए | यद्यपि मैं यह बात पूर्ण रूप से जानता हूँ कि तुम्हारे बिना मेरा कोई भी हितैषी नहीं | तुम ही एकमात्र मुझ अगति की गति हो तथापि महापुरुषों के बताये हुए आदेशों का परिपालन नहीं करता वरन् सांसारिक विषयों का दास ही बना रहता हूँ | दूसरों की निन्दा एवं दोषों के प्रकट करने में मैं एक अद्भुत चित्रकार की भाँति अत्यन्त निपुण हूँ | देहाभिमान के कारण अपनी अहंकारपूर्ण बुद्धि से लोकातीत महापुरुषों में भी दोष निकालते हुए, सर्वदा नामापराध - स्वरूप अक्षम्य पाप करता रहता हूँ | महापुरुषों में भी सर्वश्रेष्ठ ब्रज रसिकों की सी बातें बघारा करता हूँ, किन्तु हृदय में काम, क्रोध, लोभ आदि दोषों को स्थिर रूप से बसाये रहता हूँ | मेरा नाम तो ‘श्री कृपालु जी’ (कृपा करने वाला) है किन्तु कार्य तो तुम भली - भाँति जानती ही हो फिर भी अच्छा - बुरा मैं जैसा भी हूँ केवल तुम्हारा ही तो हूँ |

( प्रेम रस मदिरा दैन्य - माधुरी ).
जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज.
सर्वाधिकार सुरक्षित - राधा गोविन्द समिति.