Wednesday, June 12, 2013

भगवदविषय की प्यास ही किशोरी जी का रूप है।
-----श्री महाराजजी।