Saturday, June 8, 2013

संसारी कामनाओं का कारण है अज्ञान, अज्ञान का कारण है माया और माया का कारण है भगवद बहिर्मुखता !!
**जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज **