Saturday, June 15, 2013

एक बार आप भगवान् का नाम न लें और रूपध्यान करें , भगवत्प्राप्ति हो जायेगी। और अनंत कोटि बार आप भगवान् का नाम लें और रूपध्यान न करें, भगवत्प्राप्ति नहीं हो सकती।
बहु जन्म करे यदि श्रवण कीर्तन ,
तभू न पाय कृष्ण पदे प्रेमधन।
.......जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।