Saturday, June 21, 2014

ठाकुर जी का जैसा भी चाहें , रूपध्यान बना लो। बाल्यावस्था का ,किशोर रूप का , यूवावस्था का। ठाकुर जी उसी रूप मे मिल जायेंगे। लेकिन भगवान् को पहले देखकर फिर रूपध्यान करने वाले नास्तिक बन जायेंगे , क्योंकि हमारी प्राकृत आँखे 'प्राकृत राम ' को देखेंगी ,भगवान् राम को नहीं।
"चिदानंदमय देह तुम्हारी ,विगत विकार जान अधिकारी ''
अतः अधिकारी बनने के पूर्व देखने की बात न करो।
.......श्री महाराज जी।