Tuesday, June 3, 2014

अन्य सब जगह से अपने मन को हटा कर केवल हरि गुरु में ही मन का लगाव कर देना सबसे बड़ा गुण है।
--------श्री कृपालु महाप्रभु जी।