Monday, June 9, 2014

तुम अपने करम उँगलियों पर गिनते हो........!
और ज़ुल्मों की तुम्हारे इन्तेहा नहीं........!!
राधे-राधे।