Friday, September 7, 2012

"हरि गुरु की सेवा से, हरि गुरु के निरंतर स्मरण से हमारा अन्तः करण शुद्ध होगा ।
ये प्रतिज्ञा कर लो सब लोग की जब आपस मे मिलो तो केवल भगवद् चर्चा करो और यदि दूसरा न करे तो वहाँ से तुरंत चले जाओ, हट जाओ । इस प्रकार कुसंग से बचो । जो कमाइए उसको लॉक करके रखिए, लापरवाही मत कीजिये ।"



"संसारी वस्तु का त्याग वास्तविक त्याग नहीं है, वरन मन की आसक्ति का त्याग ही त्याग है।


"गुरु: कृपालुर्मम शरणम, वंदेsहं सद्गुरु चरणम।"







"वास्तविक महापुरुष भाग्य बताता नहीं, बनाता है।"

-------श्री महाराजजी।