Sunday, September 16, 2012



"बाहँ छुड़ाये जात हो निबल जानि के मोहिं।
हृदय ते जब जाहुगे, मर्द बदौंगो तोहि।।"