Sunday, March 8, 2015

त्रिभुवन में सत(सत्य) केवल हरि व हरिभक्त ही हैं, शेष असत(असत्य) हैं।
------श्री महाराजजी।