Friday, March 20, 2015

तू मन ! मन मानी त्याग रे।
...श्री महाराजजी।