Monday, March 24, 2014

जीवन वही है जो हरि-गुरु सेवा में ही लगा रहे।
-----श्री महाराजजी।