Wednesday, March 19, 2014

संसार वाले बाहरी चीजे देखते हैं, और महापुरुष और भगवान भीतर (आंतरिक) चीजे देखते हैं।
------श्री महाराजजी।