Sunday, April 3, 2016

It is impossible for the mind to be attached to God and the material world simultaneously.

मन संसार में भी आसक्त हो और इश्वरोपासना भी होती रहे यह सर्वथा असम्भव है।

-------SHRI MAHARAJ JI.