Thursday, April 7, 2016

जो ये हम सोचते हैं कि कोई नहीं जानता,ये सबसे बड़ा पाप का मूल है।

.....श्री महाराजजी।