Monday, July 8, 2013

यदि गंगा जल में अपवित्र जल भी मिल जाता है तो गंगा उस अपवित्र जल को स्वयं में मिला कर गंगा जल ही बना देती है।
.......श्री महाराज जी।