Wednesday, April 3, 2013

केवल भगवान् की भक्तिकरो । और साथ में 'गुरुदेवतात्मा' गुरु को अपना इष्टदेव मानो,भगवान् के बराबर मानो , अपनी आत्मा मानो । शरणागत हो जाओ । जैसी भक्ति भगवान् में हो वैसी गुरु में हो । और कहीं न हो मन का अटैचमेन्ट ( attachment ) बस ये दावा है , इससे सन्मुख हो जाओ और सन्मुख हो जाओगे तो बस बिगड़ी बन जायेगी । तब तुम्हारा ये कहना सही होगा कि - किशोरी मोरी , बिगरी देहु बनाय ।
***********जगद्गुरु श्री कृपालु महाप्रभु***********
केवल भगवान् की भक्तिकरो । और साथ में 'गुरुदेवतात्मा' गुरु को अपना इष्टदेव मानो,भगवान् के बराबर मानो , अपनी आत्मा मानो । शरणागत हो जाओ । जैसी भक्ति भगवान् में हो वैसी गुरु में हो । और कहीं न हो मन का अटैचमेन्ट ( attachment ) बस ये दावा है , इससे सन्मुख हो जाओ और सन्मुख हो जाओगे तो बस बिगड़ी बन जायेगी । तब तुम्हारा ये कहना सही होगा कि - किशोरी मोरी , बिगरी देहु बनाय । 
***********जगद्गुरु श्री कृपालु महाप्रभु***********